Tuesday, 7 February 2012

वफ़ा

आज फिर
बे वफ़ा ने बीते लम्हों का
वास्ता दे कर बुलाया है,
फिर मेरे प्यार में उसे कोई
सितम नज़र आया है,

या फिर
उसके सितम की इन्तहा अभी बाकी है,
वो क्या जाने
उसके किये सितम ही अब मेरे साथी है,

इतना सहने के बाद भी उसके बुलाने पे चला जाता हु,
जुबान साथ नहीं देती,
फिर भी मुहब्बत कह जाता हु,





******राघव विवेक पंडित 

No comments:

Post a Comment