Wednesday, 1 February 2012

मेरी प्यारी दुनिया

बच्चों की बड़ी प्यारी दुनिया है,

मेरी भी दो मुनिया है,

मुझे बहुत वो प्यारी है,

इस दुनिया से वो न्यारी है,





एक शर्मीली विश है

तो एक चंचल ऐना है,

ये मेरे दो अनमोल मोती है,

मेरी आँखों की ज्योति है,

एक लक्ष्मी, तो एक दुर्गा का रूप है,

एक छाव तो एक धुप है,



विश बहुत सीधी साधी है,

सदा चुप रहने की आदि है,

सबका ध्यान वो रखती है,

सबसे प्यार वो करती है.

जीव उसे बहुत प्यारे है,

खरगोश, सफ़ेद चुहिया, कुत्ता,

ये सब रहते संग हमारे है,



ऐना बहुत चंचल और सैतान है,

वो ढेर सारे सवालों की खान है,

वो ज्ञान का सागर है,

देश विदेश की सभी ख़बरों से भरी उसकी गागर है,

उसके बड़े ऊँचे खवाब है,

उसके पास हर एक सवाल का जवाब है,

वो नन्ही सी बच्ची है, दिल की बहुत सच्ची है,




दोनों में आपस में बहुत प्यार है,

दोनों को संगीत का बहुत शौक है

उनकी पसंद नए पुराने गीत और पश्चिमी संगीत रोक है,

लेडी गागा, टेलर स्विफ्ट और जस्टिन

उनकी पसंद के संगीतकार है,



मैं इनमे अपने टूटे हुए सपनो और

ख्वाबो को सच होता देखता हु,

मैं इन की प्यारी-प्यारी शरारतों और बातों पे

ख़ुशी से हँसता हु तो कभी रो देता हु,




कभी कभी जब वो जिद्द करती है,

मुझसे आसानी से मनवा लेती है

थोडा सा रोती है और मेरे गुस्से को

आंसुओं में बहा देती है,




उनकी मीठी मीठी बातें,

उनकी प्यारी प्यारी शरारतें,

उनकी आँखों में पलते सेकड़ों सपने को

पूरा करने की कोशिश ही मेरा लक्ष्य है,

और यही मेरा प्यारा सा संसार है,




*********राघव पंडित*


No comments:

Post a Comment