Friday, 3 February 2012

नेता


कल तक
जो हाथ जोड़ घर पर आता था   
आज
उसका चेहरा सिर्फ
अखबार में दिखाई देता है,

कल तक
जो सभी परेशानियाँ दूर करने का 
वादा करता था
आज वही परेशान किये देता है,

कल तक 
जो हमारे बीच हमारा
भाई बन के रहता था,
आज वो
हमारे भविष्य और
हमारे देश का सौदा किये देता है

कल तक 
जो सब को अन्न और पानी देने का 
वादा करता था,
आज वो अन्न और पानी के
साथ खून भी पी लेता है,

इसने कभी न
हमारे बारे में सोचा है
इसने बस हमें पल पल 
दिया धोखा है 

ये जानवर हर पांच साल बाद 
आपके मोहल्ले में दिखाई देता है,
यारों और कोई नहीं 
ये आपका प्यारा नेता है,


          *****राघव विवेक पंडित***




No comments:

Post a Comment