Friday, 18 May 2012

लम्हा लम्हा गुजरा
भुला न सका तुम्हे,

दर्द बढता गया मेरा
बता न सका तुम्हें ,

अश्क पलकों पे ठहरे
पर गिरा न सका उन्हें,

मैं प्यार करता हूँ तुमसे
ये जाता न सका तुम्हें,


           
             

No comments:

Post a Comment